ROHTAK NEWS

Rohtak main pakdi corona virus ne raftaar | ab PGI karega corona positive logo ka unhi ke ghar pe ilaaz

Rohtak main pakdi corona virus ne raftaar | ab PGI karega corona positive logo ka unhi ke ghar pe ilaaz

Rohtak main pakdi corona virus ne raftaar | ab PGI karega corona positive logo ka unhi ke ghar pe ilaaz

दिल्ली, सोनीपत, बहादुरगढ़, गुरुग्राम ने जिले में मरीजों की संख्या में एकाएक इजाफा कर दिया है। इसके कारण अब पीजीआईएमएस भी कोरोना मरीजों के उपचार को लेकर दिल्ली पैटर्न अपनाने की तैयारी में है। इसके तहत कोरोना पॉजिटिव मरीज जिन्हें उपचार की जरूरत नहीं है और उनके घर अलग कमरा व बाथरूम है तो वह घर पर ही रहेंगे। इसके लिए बुधवार से मरीजों को घर भी भेजना शुरू कर दिया जाएगा।
प्रदेश में कोरोना को लेकर नियुक्त प्रमुख नोडल अधिकारी डॉ. ध्रुव चौधरी ने बताया कि अब मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसके लिए उपचार का नया तरीका अपना होगा। अब तक एक मरीज मिलता था तो उसको दाखिल कर दिया जाता था, ताकि संक्रमण न फैले। अब मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। अब उन्हें मरीजों को दाखिल किया जाएगा, जिन्हें उपचार की ऑक्सीजन या वेंटिलेटर की जरूरत होगी।

48 घंटे में बदलेगी सैंपल लेने की जगह

पीजीआईएमएस बढ़ते सैंपलों की संख्या को देखते हुए आगामी 48 घंटों में सैंपल लेने की जगह को बदल दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि स्वास्थ्य विभाग के प्रशिक्षण केंद्र में संदिग्ध व ट्रामा सेंटर के बाहर कांटेक्ट हिस्ट्री वालों का सैंपल लेने की जगह बनाई जा सकती है। इसके लिए पीजीआईएमएस व स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयासरत हैं। डॉ. ध्रुव चौधरी ने बताया कि उन्होंने इसके लिए पांच दिन पहले ही पत्र लिख दिया है।
इन बातों पर रखा जाएगा ध्यान
  • – स्टाफ के सैंपल का होगा समय तय
  • – संबंधित वार्ड में ही की जाएगी सैंपल लेने की व्यवस्था
  • – पॉजिटिव केस ट्रामा सेंटर कोविड अस्पताल में जाए

वेंटिलेटर की बैठक संपन्न हाइपर्चेज करेगी अगला निर्णय

संस्थान में मंगलवार को वेंटीलेटर को लेकर बैठक संपन्न हो गई। इसमें अग्रोहा, करनाल, खानपुर, मेवात व रोहतक पीजीआईएमएस के वेंटीलेटरों को लेकर बात हुई। बताया जा रहा है कि अधिकारियों ने अपनी तरफ से सब क्लीयर कर चंडीगढ़ फाइल भेज दी है। अगला फैसला वहां होगा। हालांकि इसमें बाहर से आने वाले मेडिकल कॉलेेजों ने सवाल उठाया है कि ऐसी बैठक कर उनका समय खराब किया जाता है। क्योंकि एक व्यक्ति ने टेंडर भरा है और वह भी अपनी मर्जी से वेंटीलेटर उपलब्ध कराने की बात कर रहा है। कंपनी की ओर से आए व्यक्ति का कहना है कि वह कुछ वेंटिलेटर अभी देगा तो कुछ बाद में देगा। इसका कई लोग विरोध भी कर रहे हैं। इसके अलावा दो लाख 30 हजार पीपीई किट का आर्डर दे दिया गया है। इसके अलावा अप्रेन, मास्क आ दि अन्य चीजें भी शामिल हैं। इनका रेट कांट्रेक्ट हो गया है।

650 ऑक्सीजन के सिलिंडर किए स्टाक

संस्थान ने कोविड से जंग के लिए अपने पास 650 ऑक्सीजन के सिलिंडर का स्टाक कर लिया है। एक सिलेंडर लगभग दो दिन काम करता है। संस्थान के पास लगभग ऑक्सीजन के 700 प्वाइंट हैं। इन सभी पर जरूरत के हिसाब से मरीजों को आक्सीजन दी जा सकती है। गौरतलब है संस्थान के पास 150 सिलेंडर पहले से हैं और 500 अब नये मंगाए हैं।
ऑर्थो विभाग के छह डॉक्टर क्वारंटीन बाकी की तलाश रहे हिस्ट्री
पीजीआईएमएस के ऑर्थो विभाग के डॉक्टरों ने आपात विभाग में आए मरीज का उपचार तो कर दिया, लेकिन उस मरीज की जांच रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव मिलने से चार ऑर्थो के डॉक्टरों के अलावा दो इंटर्न को क्वारंटीन कर दिया गया है। इसके अलावा कांटेक्ट में आए अन्य स्टाफ की हिस्ट्री तलाशी जा रही है। वहीं कोरोना के मरीजों के उपचार में तैनात सफाई कर्मचारियों को 60 गम बूट्स दिए गए हैं।
If you do not understand my given information,then you can ask me your question in the comment box, I will answer your questions as soon as possible.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *